Rajiv

Posts Tagged ‘art’

10 Steps to Becoming a Better Writer

In Inspiration, Reblog on October 16, 2012 at 12:01 am

“10 Steps to Becoming a Better Writer

Write.
Write more.
Write even more.

Write even more than that.

Write when you don’t want to.
Write when you do.
Write when you have something to say.
Write when you don’t.
Write every day.
Keep writing.”
― Brian Clark
Joost de Valk | Brian Clark | Sean Jackson

Joost de Valk | Brian Clark | Sean Jackson (Photo credit: planetc1)

 

***************************************************************************

 

 

“1. Write like you’ll live forever — fear is a bad editor.
2. Write like you’ll croak today — death is the best editor.
3. Fooling others is fun. Fooling yourself is a lethal mistake.
4. Pick one — fame or delight.
5. The archer knows the target. The poet knows the wastebasket.

6. Cunning and excess are your friends.
7. TV and liquor are your enemies.
8. Everything eternal happens in a spare room at 3 a.m.
9. You’re done when the crows sing.”
― Ron Dakron

 

Courtesy : Facebook Post by a friend

 

 

The Muddy River – By P.A. Krishnan.

In Blog, Book Reviews, Books on December 18, 2011 at 2:37 pm

The Muddy River – By P.A. Krishnan.

A Book Review

In contrast to the books I had read recently, this book by P.A.Krishnan was a different book all together. Not because it failed to grab attention of the reader but its beautiful narrative made it an interesting read.
The story is set in the background of burning North-east, ravaged by Naxals, where kidnapping and murders have become daily chores. At the same time, our so-called Navratnas are neck-deep in corruption.
This is a story of Chandran. A man who has promised to protect one of his colleagues from the clutches of naxals. The ways and means he applies to meet his ends against many more obstacles right from his own organization, who is ready to dump his engineer colleague to save some penny for the greedy babus, to the Local government and its setup.The muddy river , as the name suggests, is all about the vices the country is facing today, be it corruption, naxalism, kidnapping and murder.

The Muddy River

Book Review by Blogadda

Each character in the story is unique. Let me introduce you to few of them:-
– Sukanya, Chandran’s wife, is grieving for the loss of their only child and their marriage is on the verge of collapse. Despite all this she encourages Chandran to continue is fight against corruption.
– Anupama, Chandran’s colleague at Assam, is anti naxal  and supports Chandran in his mission.

–         Raman, one of chandran’s friend who is more interested in girls and their love & lust. His death is another twist in the tale.

–         Herbert & Subir, Chandra’s friends who support him on his narrative.

The most amazing part of the book is its narrative. It’s a  book within the book. The story begins with Sukanya grieving for Pooja’ loss. And the story goes into flashback and the scene is “ Chandran and Raman doing some chitchat”. Then follows Chandran’s courtship with Sukanya. Pooja is present for a brief period when the ever enthusiast persuades Raman and Pooja for a trip to Himalayas. After pooja’s death everything in their life goes haywire. While Sukanya is fighting at the home front to salvage their marriage, Chandran is fighting at all fronts. Kidnapped colleague on hand, Adverse boss on the other and the grieving Mrs. Gosh on the third. Things become nasty when company refuses to pay the ransom but Chandran keeps his calm and continues his effort to rescue his kidnapped colleague.  During the narrative chandran’s Ghandian aspect beacons, putting forth the never-dying importance of Non- Violence in Indian Society against all evils. The book is very apt in these times when the country is following the footsteps of Anna. Do good for the country and countrymen. For they say:

“if you have been exceptionally good during your lifetime, the spirit, on the last day, escapes through brahmarandhara, the top of the skull. On the other hand, if you have been a shit all along, the spirit too follows shit’s path and goes out of your arsehole.”

The story beams up when a new bird is to be welcomed in Chandran’s house and even in Mrs. Ghosh.  But ”Picture is  yet to complete , My friend”.

The reader shall be engrossed in the story which is spell bounding and keeps readers guessing till very last page.

Enjoy reading!

This is part of Book reviews program at Blogadda

Author: P A krishnan

Genre: Political Fiction

Publisher: Tranquebar

ISBN 978-93-80658-56-8

can buy at Flipkart

Book launch gallery

Theory of Randomness

In Crazy on April 19, 2011 at 10:31 pm

Theory of randomness

Sounds cool!

Just an exercise of a kind. I have to get past this “What to write?” feeling. hence follow this stupid exercise. I don’t care about the spelling mistakes, which I see happening here. So this idea pops up to mind. Has the Ms Word or application like this have taken a toll on people’s english skills. In my case I feel it has. sometime I feel like messing up with spellings, when few years ago I was so damn sure about my spellings.

So I shall just take few minutes of my time, to be precise 2 minutes. Let me write it in a flow. Just let me see what comes up here on the screen.

Mind is definitely messing up with all that is coming up to me. Need to get pass this blockade. Life is fair with everybody who thinks it’s. There is a saying “no body dies virgin, Life fuck every body”. Is this true. Ask thy self. So much of opportunity comes up knocking at the door, but one is so busy with life that one does not pay heed to them. But opportunity doesn’t go waste. It’s that some body else grabs it up. Do we need to be vigilant to every one of that opportunity or are we capable of identifying the one. Now that’s rude to the point of getting kicked and misunderstood…. Aye? If one is Not, he misses it and shall miss it badly.

Times up!

PS: I shall tag whatever WP is suggesting.

and yeah I did run the proofread writing thing on the kitchen sink up here.

I think I might write further on this topic. …   😛

Random

Image via telegraph.co.uk

चेन्नई बदल रहा है …

In Art, Chennai, Life, Photography, Pictures, Places, scribblings, Travel on December 14, 2010 at 2:42 am

आज ऑफिस से जल्दी लौट मै अकेले रूम मे लेटा हुआ था … “डिंग डोंग” तभी कमरे पे किसी ने दस्तक दी… चलो यार कहीं घूम के आते हैं कहाँ जाओगे  बैठो भी कुछ देर मे खाने ही चलेंगे |अरे वो तो चलेंगे… अभी तो चलो शाम की ठंडी हवा का मज़ा ले … मै मन मसोस कर चलने को तैयार हुआ…चेन्नई की शाम,  वैसे तो कोई ख़ास आकर्षण नहीं रहती है …और बाज़ार की भीड़ भाड़ मुझे रास भी नहीं आती… फिर भी,  दोस्त जिद्द कर रहा था तो चलना पड़ा…खैर हम होटल से निकले … वैसे भी आज करने को कुछ ख़ास था नहीं तो हमने सोचा की चलो जब निकले ही हैं तो बाज़ार हो आते हैं… होटल से कुछ ही दुरी पे पोंडी बाज़ार है… बाज़ार की भीड़ भाड़ देख मुझे २००५ की वो शाम याद आ गयी| उस शाम मे अपने इंजीनियरिंग के कुछ दोस्तों के साथ चेन्नई आया हुआ था … फिर जो हुआ उसके बाद मैंने कसम खायी थी की कुछ हो जाए मे चेन्नई वापस नहीं आ रहा… पर शायद होनी को कुछ और ही मंजूर था | और मुझे किस्मत ने मास्टर्स की पढाई के लिए चेन्नई ला फेका… चेन्नई के इन दो सालों ने चेन्नई के प्रति मेरा नज़रिया काफी बदल दिया…यहाँ मैंने अपने जीवन के कुछ यादगार दो साल बिताये, कुछ दोस्त बने जिन्हें आप जीवन पर्यंत याद रखना चाहेंगे  और साथ ही चेन्नई का भोजन … मैंने काफी लुत्फ़ उठाया… अब आपकी बारी है

pondi bazar

पोंडी बाज़ार, टी नगर का जाना माना बाज़ार है | यहाँ आपको आपके उपयोग की सभी चीज़े मिल जायेंगी और ख़ास कर लड़कियों के लिए यहाँ की दुकाने काफी उपयुक्त हैं| चूड़ियों से लेकर स्टायलिश कंगन और झुमके और बिंदी से लेकर सैंडल तक, सभी चीजें मिलेंगी| पर आपको मोल भाव करना पड़ेगा और अगर गलती से भी आपने तमिल की जगह हिंदी की या अंग्रजी के दो शब्द बोल दिए तो फिर दुकानों मे सामानों  की कीमते दुगुनी हो जाती हैं | और फिर आप मोल भाव मे कितने अनुभवी हो उसकी परख होती है|     इसके अलावा और भी कई दुकाने मिलेंगी जैसे की घडी की Titan की शो रूम, फिर एक दो shopping mall हैं जहाँ की आप विविध तरह की खरीददारी कर सकते हैं..और फिर यदि आपको शाम बितानी हो तो  आप या तो सिटी सेंटर चले जाओ या फिर एक्सप्रेस अवेनुए चले जाओ … और फिर खाने के लिए पास मे ही शरवनाभवन हैं जहाँ की आप साउथ इंडियन भोजन का आनंद उठा सकते हैं..
.हालाकी अगर देखें तो आप आज के चेन्नई को पहले के चेन्नई से बिलकुल ही भिन्न पायेंगे , कम से कम भाषा के मामले मे| आज चेन्नई सही रूप से एक मेट्रो की तरह उभरा है जहाँ पे देश के कोने कोने से लोग पढाई करने या फिर अपनी जीवन यापन का जरिया ढूंढने आते हैं | चेन्नई को इंडिया का ऑटो हब या फिर इंडिया का Detrit भी कहा जाता है… यहाँ आपको विश्व की नामचीन ऑटो कम्पनियों की फैक्ट्रीया दिखाई देंगी | और फिर सॉफ्टवेर कम्पनियां के चेन्नई मे बढ़ावे से काफी हद तक यह संभव हो पाया है की आज नोर्थ इंडिया के लोग चेन्नई मे रहने मे संकोच नहीं करते हैं| और ख़ास बात ये भी है की चेन्नई के लोगों ने उन्हें अपनाया भी है | वरना यहाँ अगर आप दो या तीन दशक पहले आये होते  तो फिर आपको उस दौर से गुज़ारना पड़ता जब यहाँ हिंदी के नाम से लोगों मे चिद्द थी…पर नयी पीढ़ी ने बदलाव का रास्ता  अख्तियार किया है |  ये वही चेन्नई है जहां कुछ वर्षों पहले “मेक डोनाल्ड – फ़ूड जोइंट”  ने अपनी एक शाखा खोली थी पर  लोगो के प्रदर्शन की वजह से बंद करनी पड़ी… और आज का चेन्नई है जहाँ हरेक कोने मे कम से कम एक “मेक डी” जरूर मिलेगा | और हाँ उसी के आसपास आपको “के ऍफ़ सी” का भी जोइंट मिलेगा | मैंने अपने दो वर्षो मे अगर चेन्नई को देखा है तो वास्तव मे मेरा आश्चर्य होना लाजमी था… क्युकी मेरा देखने का नज़रिया काफी कुछ जगह की भोजन व्यवस्था पे निर्वर करता है | और आज आपको मै चेन्नई मे पंजाबी भोजन हो या राजस्थानी थाली या बंगाली माछेर झोल  हो या फिर गुजरती थाली या लिट्टी चोखा या फिर जैन भोजनालय या फिर मारवाड़ी भोजन  … क्या चीज़ कहाँ मिलती है वो मै बता सकता हूँ… इससे आप स्वतः अंदाजा लगा सकते हैं की जहाँ के खाने मे इतनी विवधता हो, वो जगह  नागवार तो कतई नही हो सकता है.| और अगर आप हिंदी फिल्मों के बिना नहीं जी सकते, तो ख़ास आपके लिए हैं सत्यम, इनोक्स, पीवीआर, अनु-एगा  और भी ढेर सारे चित्रपट जहाँ आप हिंदी फिल्मों का लुत्फ़ उठा सकते हैं |
दार्शनिक स्थलों मे जैसे की मदुरै, रामेश्वरम, तिरुपति आदि पवित्र स्थल चेन्नई से कुछ ही दूरी पे हैं | चेन्नई का मरीना बीच या फिर महाबलीपुरम या पोंडिचेरी देश विदेश के पर्यटकों की राजधानी बना रहता है| जहाँ आप महाबलीपुरम मे पुराने राजाओं के निर्माण किये गए इमारतें देख सकते हो तो  पोंडिचेरी मे आप फ्रेंच रहन सहन का आनंद उठा सकते हैं  साथ ही  वहां देखने को काफी कुछ है जैसे और्बिन्दो आश्रम, औरोविला इत्यादी |
शहर मे अगर पठान पाठन की उत्तम व्यवस्था न हो तो फिर उस जगह का महत्व नहीं रहता | पर चेन्नई मे आपको नर्सरी से लेकर मास्टर्स की डिग्री तक के अच्छे कालेज मिल जायेंगे, जैसे की लोयोला कालेज, अन्ना उनीवेर्सिटी, आई आई टी मद्रास , और अनगिनत इंजीनियरिंग मेडिकल और ला कालेज मिलेंगे…
फिर शहर तेजी से अपने आप को विकसित कर रहा है चाहे वो रियल एस्टेट का बाज़ार 

aerial view of kathipada junction

हो या रिटेल सामानों का  या फिर बढती जनसँख्या के रहने की व्यवस्था की बात हो …

चेन्नई बदल रहा है …

सुबह की पहली किरण…the Morning Glory

In Art, Bihar, BobLife, Chennai, kerala, Life, Places, scribblings, Thoughts on December 10, 2010 at 7:58 am

सुबह की पहली किरण…पक्छी चह चहा रहे हैं…मानो प्रातः काल का स्वागत गान गा रहे हो … ऐसा मनोरम दृश्य आपको केवल केरला मे ही उपलब्ध हो सकता है…हमेशा से ही मुझे प्रकृति का सानिध्य उत्साहित करता रहा है… . मेरे पैत्रिक घर के पीछे एक बगीचा है | इसमे ८-९ प्रकार के आम के वृक्ष हैं, लीची के और अमरुद के ४-५ पेड़ हैं | और इन सभी का देख भाल मेरी माताजी खुद अपनी देख रेख मे करवाती है… जब भी कभी मे अपने पैत्रिक घर जाता हूँ.. सबसे पहले बगीचे की सैर करता हूँ | पत्तों की खुशभु, मिटटी की सौंधी सी महक, आह!   यहाँ आ कर मुझे हमेशा लगता है की  मेरा शारीर फिर से रि चार्ज  हो गया हो |  चेन्नई  की भीड़ भाड़ से ये जगह कितनी प्यारी है…

फिरमेरा तबादला यहाँ केरला मे हो गया सो… चेन्नई के बाद केरला का सफ़र मेरे लिए सपनो का साकार होना जैसा ही था..ना ज्यादा प्रदूसन , ना ज्यादा भीड़ भाड़ …यहाँ के लोग भी भागम भाग मे ज्यादा विश्वाश नहीं करते| सब कुछ समय से पर आराम से…कोई हड़बड़ी नहीं…मेट्रोस जैसा की चेन्नई,  मुंबई से बिलकुल भिन्न … वहां तो मानो लोगों का रेला लगा हो  और सभी कहीं न कहीं दौड़ रहे होते हैं…

सुबह सुबह बाहर बालकोनी मे कॉफ़ी का आनंद  ले  रहा हूँ… 🙂

kerala sunrise

subah subah "the morning"

%d bloggers like this: