Rajiv

Posts Tagged ‘Business and Economy’

Are you being duped?

In Anecdotes, Banking, Business, rants on March 10, 2011 at 10:31 pm

I open my mail and here it is. A whooping cash of Rs 3.5 Million waiting for me. And I was the one of the few selected from entire India,for this much cash prize.

The mail sent to me read like this…

An Official Invitation has been issued in your name. It confirms that you are amongst those selected from the whole of India, who may activate an exclusive Sweepstakes entry opportunity. If you are drawn winner of our Super Grand Prize, you’d have sole claim to a cash amount worth  35,00,000.00.

You may be surprised to know that in all of India, less than 1% of the households have been selected to receive a fabulous offer from Reader’s Digest. While many of your neighbours will never be selected, you have already been fortunate enough to clear two of the three stages there are to becoming a winner in our Rupees 1 Crore Sweepstakes 2011!

Now it’s all up to you to make the most of your opportunity. Simply click here to access the private web site to activate your Sweepstakes entry opportunity.

~ Sweepstakes Director

P.S. When people receive a Sweepstakes invitation — like the one you now have — they often decide to discard it, thinking, no one ever really wins. And it is a fact that if you choose to ignore the chance to enter the Rupees 1 Crore Sweepstakes 2011, you will NEVER win ANYTHING in the Draw. Don’t let this guaranteed opportunity slip away, just click here to access the site and you could win
35,00,000.00. Act quickly!

Since I can’t handle this much money. I offer you the prize 😉

**********************************************************************

 

no spam!

Image via Wikipedia

 

Now this mail was sent by a well known Job portal named as some famous magazine. Spamming my mailbox in the name of promotions!!! Outrageous, Intolerable!

 

Another Interesting Incident

Recently, I had experienced a spamming sequence which was unusual and the guy on the other side was persistently sending mails. My friend works in a well known bank. I had gone to his bank for some official work. While I had been there, He received a mail from an NRI customer, say Mr X. The mail said something Un-Interesting happened with Mr X. He said He had been to London for an official trip [he lives in London]. The hotel he was staying in was robbed, [mind it, hotel was robbed]. He lost his wallet, his documents and what all [he lives in london, why the hell ! he needed a hotel UNLESS… 😉 ]. He said, he had 2-3 Fixed deposits in that branch [the name actually had FD]. He asked very politely, to send those money through Western Union or Money gram. [ the bank has discontinued the services of Western Union or money Gram].

Branch manager replied very politely that the services are not available. Manager also asked him to quote his account number. No sooner did he reply, he got reply to his mail.

The bugger had replied with an account number alien to the branch 🙂 .

I casually asked the manager, Sir I think this is spam. He said, “Yes, I know. I’m just checking how far does he go?” 😀

Finally the guy on the other side understood, here it would not be possible 😀 😀

Moral of the Story

Beware of Spams particularly with your financial transactions. Never ever divulge details of your account number, password, username, date of birth etc to anyone, either through mail or Phone.

Banks would never ask these stuffs on Phone or mail.

P.S.  Don’t click on any link in the mail

Advertisements

A day with UNIDO Director General

In Uncategorized on January 22, 2011 at 4:15 pm

This Post was written a year ago, when Mr. K K Yumkella visited LIBA for a Guest Lecture.

After partying heavily last night at Rahul’s birthday bash, we did go to sleep, when clock struck 3:00 am.  Though we didn’t have classes today (probably coz I bunked one) I had a busy day, sleeping 😉  .

Morning greeted us with the news that It was compulsory to attend todays guest lecture. We had our own apprehension about the exam  starting on monday onwards. We were half dead after going through the list of  marks required to avoid ‘D‘ grade. Still students came to auditorium, cursing the organisers.
 

Image via aeonbox.com

 

Later we came to know that an eminent personality, Dr. Kandeh K. Yumkella, Director General UNIDO (United Nation Industrial Development Organization) was to address the gathering along with Mr Anders Bech , CEO of FLSmidth.

Amidst all these tension Address of Dr. Yumkella was a pleasant surprise. He belongs to Sierra Leone ( Which he described was among the poorest countries in 1990s). People there in Sierra leone still have problems of drinking water, electricity and means of procuring food.  It was inspiring when he said ” If I can be Director General despite all adversities I faced, then you people sure can achieve what you want.”   He said there are thousands of topics which is debatable when you view it witha different perspective –  the poor and the rich.

It is globalization which has helped India, China and several other developing countries to  grow at such a whooping rate. But it is the same globalisation which has affected Sierra Lones economy. Whenever there is any crisis in financial markets of US and Europe, Sierra Lone is hardly hit. Inflation has taken its tall all over the world. It’s hard to explain to the poor people, it is some outward force which has resulted into soaring food prices, which they can’t afford. A glass of rice (still a measure of rice in Sierra leone) costs more than what it was few years ago.
Bio Energy, another of topics which he discussed, has become a major focus especially when the fossil fuels are depleting rapidly and the Oil prices are skyrocketing. It has given rise to serious food crisis in several African countries. He cited an example of a debate on Bio fuel, when a gentleman said ‘My bio fuel is better than yours, I use sugarcane to produce it  and I had done it since long time and nothing happened and now when you are doing. it has led to crisis.’
Carbon Credit, again a major issue he threw light on. Some countries are following Carbon credit. Though some serious misunderstandings exist but it will be resolved soon.

Dr Yumkella impressed all of us with his pleasant personality and knowledge.
The issues he raised are quiet a concern even to date.

चेन्नई बदल रहा है …

In Art, Chennai, Life, Photography, Pictures, Places, scribblings, Travel on December 14, 2010 at 2:42 am

आज ऑफिस से जल्दी लौट मै अकेले रूम मे लेटा हुआ था … “डिंग डोंग” तभी कमरे पे किसी ने दस्तक दी… चलो यार कहीं घूम के आते हैं कहाँ जाओगे  बैठो भी कुछ देर मे खाने ही चलेंगे |अरे वो तो चलेंगे… अभी तो चलो शाम की ठंडी हवा का मज़ा ले … मै मन मसोस कर चलने को तैयार हुआ…चेन्नई की शाम,  वैसे तो कोई ख़ास आकर्षण नहीं रहती है …और बाज़ार की भीड़ भाड़ मुझे रास भी नहीं आती… फिर भी,  दोस्त जिद्द कर रहा था तो चलना पड़ा…खैर हम होटल से निकले … वैसे भी आज करने को कुछ ख़ास था नहीं तो हमने सोचा की चलो जब निकले ही हैं तो बाज़ार हो आते हैं… होटल से कुछ ही दुरी पे पोंडी बाज़ार है… बाज़ार की भीड़ भाड़ देख मुझे २००५ की वो शाम याद आ गयी| उस शाम मे अपने इंजीनियरिंग के कुछ दोस्तों के साथ चेन्नई आया हुआ था … फिर जो हुआ उसके बाद मैंने कसम खायी थी की कुछ हो जाए मे चेन्नई वापस नहीं आ रहा… पर शायद होनी को कुछ और ही मंजूर था | और मुझे किस्मत ने मास्टर्स की पढाई के लिए चेन्नई ला फेका… चेन्नई के इन दो सालों ने चेन्नई के प्रति मेरा नज़रिया काफी बदल दिया…यहाँ मैंने अपने जीवन के कुछ यादगार दो साल बिताये, कुछ दोस्त बने जिन्हें आप जीवन पर्यंत याद रखना चाहेंगे  और साथ ही चेन्नई का भोजन … मैंने काफी लुत्फ़ उठाया… अब आपकी बारी है

pondi bazar

पोंडी बाज़ार, टी नगर का जाना माना बाज़ार है | यहाँ आपको आपके उपयोग की सभी चीज़े मिल जायेंगी और ख़ास कर लड़कियों के लिए यहाँ की दुकाने काफी उपयुक्त हैं| चूड़ियों से लेकर स्टायलिश कंगन और झुमके और बिंदी से लेकर सैंडल तक, सभी चीजें मिलेंगी| पर आपको मोल भाव करना पड़ेगा और अगर गलती से भी आपने तमिल की जगह हिंदी की या अंग्रजी के दो शब्द बोल दिए तो फिर दुकानों मे सामानों  की कीमते दुगुनी हो जाती हैं | और फिर आप मोल भाव मे कितने अनुभवी हो उसकी परख होती है|     इसके अलावा और भी कई दुकाने मिलेंगी जैसे की घडी की Titan की शो रूम, फिर एक दो shopping mall हैं जहाँ की आप विविध तरह की खरीददारी कर सकते हैं..और फिर यदि आपको शाम बितानी हो तो  आप या तो सिटी सेंटर चले जाओ या फिर एक्सप्रेस अवेनुए चले जाओ … और फिर खाने के लिए पास मे ही शरवनाभवन हैं जहाँ की आप साउथ इंडियन भोजन का आनंद उठा सकते हैं..
.हालाकी अगर देखें तो आप आज के चेन्नई को पहले के चेन्नई से बिलकुल ही भिन्न पायेंगे , कम से कम भाषा के मामले मे| आज चेन्नई सही रूप से एक मेट्रो की तरह उभरा है जहाँ पे देश के कोने कोने से लोग पढाई करने या फिर अपनी जीवन यापन का जरिया ढूंढने आते हैं | चेन्नई को इंडिया का ऑटो हब या फिर इंडिया का Detrit भी कहा जाता है… यहाँ आपको विश्व की नामचीन ऑटो कम्पनियों की फैक्ट्रीया दिखाई देंगी | और फिर सॉफ्टवेर कम्पनियां के चेन्नई मे बढ़ावे से काफी हद तक यह संभव हो पाया है की आज नोर्थ इंडिया के लोग चेन्नई मे रहने मे संकोच नहीं करते हैं| और ख़ास बात ये भी है की चेन्नई के लोगों ने उन्हें अपनाया भी है | वरना यहाँ अगर आप दो या तीन दशक पहले आये होते  तो फिर आपको उस दौर से गुज़ारना पड़ता जब यहाँ हिंदी के नाम से लोगों मे चिद्द थी…पर नयी पीढ़ी ने बदलाव का रास्ता  अख्तियार किया है |  ये वही चेन्नई है जहां कुछ वर्षों पहले “मेक डोनाल्ड – फ़ूड जोइंट”  ने अपनी एक शाखा खोली थी पर  लोगो के प्रदर्शन की वजह से बंद करनी पड़ी… और आज का चेन्नई है जहाँ हरेक कोने मे कम से कम एक “मेक डी” जरूर मिलेगा | और हाँ उसी के आसपास आपको “के ऍफ़ सी” का भी जोइंट मिलेगा | मैंने अपने दो वर्षो मे अगर चेन्नई को देखा है तो वास्तव मे मेरा आश्चर्य होना लाजमी था… क्युकी मेरा देखने का नज़रिया काफी कुछ जगह की भोजन व्यवस्था पे निर्वर करता है | और आज आपको मै चेन्नई मे पंजाबी भोजन हो या राजस्थानी थाली या बंगाली माछेर झोल  हो या फिर गुजरती थाली या लिट्टी चोखा या फिर जैन भोजनालय या फिर मारवाड़ी भोजन  … क्या चीज़ कहाँ मिलती है वो मै बता सकता हूँ… इससे आप स्वतः अंदाजा लगा सकते हैं की जहाँ के खाने मे इतनी विवधता हो, वो जगह  नागवार तो कतई नही हो सकता है.| और अगर आप हिंदी फिल्मों के बिना नहीं जी सकते, तो ख़ास आपके लिए हैं सत्यम, इनोक्स, पीवीआर, अनु-एगा  और भी ढेर सारे चित्रपट जहाँ आप हिंदी फिल्मों का लुत्फ़ उठा सकते हैं |
दार्शनिक स्थलों मे जैसे की मदुरै, रामेश्वरम, तिरुपति आदि पवित्र स्थल चेन्नई से कुछ ही दूरी पे हैं | चेन्नई का मरीना बीच या फिर महाबलीपुरम या पोंडिचेरी देश विदेश के पर्यटकों की राजधानी बना रहता है| जहाँ आप महाबलीपुरम मे पुराने राजाओं के निर्माण किये गए इमारतें देख सकते हो तो  पोंडिचेरी मे आप फ्रेंच रहन सहन का आनंद उठा सकते हैं  साथ ही  वहां देखने को काफी कुछ है जैसे और्बिन्दो आश्रम, औरोविला इत्यादी |
शहर मे अगर पठान पाठन की उत्तम व्यवस्था न हो तो फिर उस जगह का महत्व नहीं रहता | पर चेन्नई मे आपको नर्सरी से लेकर मास्टर्स की डिग्री तक के अच्छे कालेज मिल जायेंगे, जैसे की लोयोला कालेज, अन्ना उनीवेर्सिटी, आई आई टी मद्रास , और अनगिनत इंजीनियरिंग मेडिकल और ला कालेज मिलेंगे…
फिर शहर तेजी से अपने आप को विकसित कर रहा है चाहे वो रियल एस्टेट का बाज़ार 

aerial view of kathipada junction

हो या रिटेल सामानों का  या फिर बढती जनसँख्या के रहने की व्यवस्था की बात हो …

चेन्नई बदल रहा है …
%d bloggers like this: